शुक्रवार, 15 मार्च 2013

शुक्रवार, 15 मार्च 2013


कलयुग की महाभारत


                                 सब कुछ तो लगा दिया

                                 मैंने खुद ही

                                 अपना दाँव पर

                                 पद, प्रतिष्ठा, अपना घर

                                 फिर भी तुमने

                                 किया मुझसे छल

                                 और दिया धोखा

                                 अर्जुन के हाथों ही

                                 निर्वस्त्र हुयी द्रौपदी

                                 कैसी अजीब रही

                                 यह कलयुग की महाभारत


2 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…


फिर भी तुमने

किया मुझसे छल
yahi to vidambna hai kintu yahi satya bhi hai .bahut sundar bhavabhivyakti .aabhar.

Sarika Mukesh ने कहा…

abhar shalini ji!