गुरुवार, 14 मार्च 2013

बृहस्पतिवार, 14 मार्च 2013




कैसे है नारी अबला 
                                                             
                                              

(Courtesy: Image from google)

                   सीता का हरण
                   बन गया था

                   रावण का मरण





(Courtesy: Image from google)

                                                           



                      द्रौपदी का चीर-हरण 
                      खत्म कर देता है
                      समूचा कुरूवंश







                           
(Courtesy: Image from google)
                                                                                              





                        काली की
                        प्रचंडता रोकने के लिए 
                        स्वयं शंकर को
                        लेटना पड़ा था राह में


                                                              

                    
                                              समझ में नहीं आता 
                                              इस सबके बावजूद

                                              कैसे है नारी अबला

                                              पुरूषों की निगाह में? ∙



4 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

सारिका जी ,ब्लॉग पर आपकी प्रथम प्रविष्टि ही बताती है की पुरुषों की सोच चाहे उनके कृत्य कितने ही अवैध हों या कितनी ही कायरता लिए वे नारी को सोचते अपने से कम ही हैं ,किन्तु सत्य को झुठलाना उनपर ही भारी पड़ता है यह भी आपने अपनी सुन्दर अभिव्यक्ति के माध्यम से अभिव्यक्त किया है .आपका इस ब्लॉग पर हार्दिक अभिनन्दन.

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

जिस नारी को सदियों से शक्ति का रूप माना गया हो वो अबला कैसे हो सकती है !!

avanti singh ने कहा…

बहुत ही अच्छा सवाल है ये ,आप ने एक उम्दा शुरुआत की है ,बधाई आप को

Sarika Mukesh ने कहा…

@शालिनी कौशिक जी, पूरण खण्डेलवाल जी,अवन्ती सिंह जी.
सर्वप्रथम, शालिनी जी को धन्यवाद की उन्होंने मुझे इस ब्लॉग के माध्यम से सबसे रूबरू होने का सुअवसर दिया! इसके उपरांत आप सभी की स्नेहमयी प्रतिक्रिया के लिए आप सभी का हार्दिक आभार! नारी को युगों से सम्मानित किया जाता रहा है परन्तु उसके साथ छल का खेल भी सतत खेला जाता रहा है! ये खेल अब बंद होवे और नारी को भी संवेदनशील/सजीव जीव माने जाने की आवश्यकता है ना कि एक निरीह जीव....
आप सभी का एक बार फिर से धन्यवाद! आशा है भविष्य में भी आप सबों का स्नेह मिलता रहेगा!
सारिका मुकेश