शुक्रवार, 28 मार्च 2014

हुकुम देना है हक़ इनका ,हुकुम सुनना हमारा फ़र्ज़ ,

 
बहाने खुद बनाते हैं,हमें खामोश रखते हैं ,
बहाना बन नहीं पाये ,अकड़कर बात करते हैं .
.......................................................
हुकुम देना है हक़ इनका ,हुकुम सुनना हमारा फ़र्ज़ ,
हुकुम मनवाने की ताकत ,पैर में साथ रखते हैं .
...............................................................
मेहरबानी होती इनकी .मिले दो रोटी खाने को ,
मगर बदले में औरत के ,लहू से पेट भरते हैं .
...............................................................
महज़ इज़ज़त है मर्दों की ,महज़ मर्दों में खुद्दारी ,
साँस तक औरत की अपने ,हाथ में बंद रखते हैं .
.........................................................
पूछकर पढ़ती-लिखती हैं ,पूछकर आती-जाती हैं ,
इधर ये मर्द बिन पूछे ,इन्हीं पर शासन करते हैं .
........................................................
इशारा भी अगर कर दें ,कदम पीछे हटें उसके ,
खिलाफत खुलकर होने पर ,भी अपनी चाल चलते हैं .
...................................................................
नहीं हम कर सकते हैं कुछ भी ,टूटकर कहती ''शालिनी ''
बनाकर  जज़बाती हमको ,ये हम पर राज़ करते हैं .

..
शालिनी कौशिक 
   [WOMAN ABOUT MAN

2 टिप्‍पणियां:

अभिषेक कुमार अभी ने कहा…

बहुत खूब / बहुत उम्दा

एक नज़र :- हालात-ए-बयाँ: ''कोई न सुनता उनको है, 'अभी' जो बे-सहारे हैं''

sarika bera ने कहा…

wow.....mam it`s a amazing post n afcourse aapne sab sahi likha hain........:-)
बनाकर जज़बाती हमको ,ये हम पर राज़ करते हैं .