शुक्रवार, 28 फ़रवरी 2014

माँ की महिमा :-)

माँ भूखी रहती हैं ,
                          खिलाने के लिये !!
मेहनत-मजदूरी करती हैं, 
                                     पढ़ाने के लिये !!
सादगी से रहती हैं,
                           अच्छा पहनाने के लिये !!
लाल-पीली होती हैं ,
                           सही राह दिखाने के लिये !!
खून-पसीना बहाती हैं ,
                                 अच्छा इंसान बनाने के लिये !!
हर गम सहती हैं,
                         बुराइयों से बचाने के लिये !!
छुपकर आंसू बहाती हैं ,
                                   मेरे गुनाहों को भुलाने के लिये !!
हर वक़्त दुआ करती हैं ,
                                    बदी से बचाने के लिये !!
आओ बड़े होकर कुछ कर दिखाए ,
                                                  गर्व करने के लिये !!
किसी एक के लिये नहीं ,
                                    "सारिका "कहती हैं सारे ज़माने के लिये !!:-)

3 टिप्‍पणियां:

कविता रावत ने कहा…

आओ बड़े होकर कुछ कर दिखाए ,
गर्व करने के लिये !!
किसी एक के लिये नहीं ,
"सारिका "कहती हैं सारे ज़माने के लिये !!:-)
सच अपने लिए जिए तो क्या जिए.... गाने के बोल होंठों पर आ गए ..
बहुत सुन्दर प्रेरक

sarika bera ने कहा…

bahut-2 aabhar mam.....:-)

रीता गुप्ता ने कहा…

wah wah bahut khub