बुधवार, 24 जुलाई 2013

चढ़ते वे कैसे ऊपर ,जब बेंत ले पड़ी हो .


Arabian couple relaxing & drinking tea Royalty Free Stock PhotoArabian couple relaxing & drinking tea Stock Images
Arabian couple relaxing & drinking tea Stock Photography

क्यूँ खामखाह में ख़ाला,खारिश किये पड़ी हो ,
खादिम है तेरा खाविंद ,क्यूँ सिर चढ़े पड़ी हो .
 …………………………
ख़ातून की खातिर जो ,खामोश हर घड़ी में ,
खब्ती हो इस तरह से ,ये लट्ठ लिए पड़ी हो .
..................................................
खिज़ाब लगा दिखते,खालू यूँ नौजवाँ से ,
खरखशा जवानी का ,किस्सा लिए पड़ी हो .
..................................................
करते हैं खिदमतें वे ,दिन-रात लग तुम्हारी ,
फिर क्यूँ न मुस्कुराने की, जिद किये पड़ी हो .
..................................................
करते खुशामदें हैं ,खुतबा पढ़ें तुम्हारी ,
खुशहाली में अपनी क्यूँ,खंजर दिए पड़ी हो .
..................................................
खिलवत से दूर रहकर ,खिलक़त को बढ़के देखो ,
क्यूँ खैरियत की अपनी ,खिल्ली किये पड़ी हो .
..................................................
ऐसे खाहाँ की खातिर ,रोज़े ये दुनिया रखती ,
पर खामख्याली में तुम ,खिसियाये हुए पड़ी हो .
..................................................
खुद-इख़्तियार रखते ,खुसिया बरदार हैं फिर भी ,
खूबी को भूल उनकी ,खटपट किये पड़ी हो .
..................................................
क्या जानती नहीं हो ,मजबूरी खुद खसम की ,
क्यूँ सारी दुख्तरों को ,सौतन किये पड़ी हो .
..................................................
''शालिनी '' कहे खाला,खालू की कुछ तो सोचो ,
चढ़ते वे कैसे ऊपर ,जब बेंत ले पड़ी हो .
..................................................
                             शालिनी कौशिक
                                [WOMAN ABOUT MAN]

               
शब्दार्थ :-खाविंद-पति ,खातून-पत्नी ,खाला-मौसी ,खालू-मौसा खारिश -खुजली ,खुसिया बरदार -सभी तरह की सेवा करके खुश रखने वाला ,खर खशा-व्यर्थ का झगडा ,खाहाँ-चाहने वाला ,खिलवत -एकांत ,खिलक़त-प्रकृति ,खामख्याली -नासमझी


3 टिप्‍पणियां:

premkephool.blogspot.com ने कहा…

वाह, बहुत ही सुन्दर लेख

shorya Malik ने कहा…

बहुत ही रोचक और प्यारी गजल, बहुत बहुत शुभकामनाये

यहाँ भी पधारे
पुस्तक चर्चा -१,,,,,,, मेरे गीत (सतीश सक्सेना )

http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post.html

lori ali ने कहा…

allah re Shalini!
tum bhi gazab ho, gazal kam hazal zyada hai!
magr ek baat to hai, sns of humour gazab ka hai tumhara!!!! :)