रविवार, 7 जुलाई 2013

हर दौर पर उम्र में कैसर हैं मर्द सारे ,

Picture of Medieval King of England in the Middle Ages

हर दौर पर उम्र में कैसर हैं मर्द सारे ,
गुलाम हर किसी को समझें हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
बेटे का जन्म माथा माँ-बाप का उठाये ,
वारिस की जगह पूरी करते हैं मर्द सारे.
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
ख़िताब पाए औरत शरीक-ए-हयात का ,
ठाकुर ये खुद ही बनते फिरते हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
रुतबा है उसी कुल का बेटे भरे हैं जिसमे ,
जिस घर में बसे बेटी मुल्ज़िम हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
लड़की जो बढे आगे रट्टू का मिले ओहदा ,
दिमाग खुद में ज्यादा माने हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
जिस काम में भी देखें बढ़ते ये जग में औरत ,
मिलकर ये बाधा उसमे डाले हैं मर्द सारे .
''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
मिलती जो रियायत है औरत को हुकूमत से ,
जरिया बनाके उसको लेते हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
आरामतलब जीवन औरत के दम पे पायें ,
आसूदा न दो घड़ियाँ देते हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
पाए जो बुलंदी वो इनाने-सल्तनत में ,
इमदाद-ए-आशनाई कहते हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
बाज़ार-ए-गुलामों से खरीदकर हैं लाते ,
इल्ज़ाम-ए-बदचलन उसे देते हैं मर्द सारे.
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
मेहर न मिले मन का तो मारते जलाकर ,
खुद पे हुए ज़ुल्मों को रोते हैं मर्द सारे .
''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
हालात ''शालिनी''ही क्या -क्या बताये तुमको ,
देखो इन्हें पलटकर कैसे हैं मर्द सारे .
''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
शब्दार्थ:-ठाकुर -परमेश्वर ,कैसर-सम्राट ,आशनाई-प्रेम दोस्ती ,इमदाद -मदद ,आसूदा-निश्चित और सुखी ,इमदाद-ए-सल्तनत -शासन सूत्र .

              शालिनी कौशिक 
                    [कौशल ]


18 टिप्‍पणियां:

shikha kaushik ने कहा…

bahut khoob

Sriram Roy ने कहा…

बेहतरीन प्रस्तुति … बधाई

Sarik Khan ने कहा…

लड़की जो बढे आगे रट्टू का मिले ओहदा ,
दिमाग खुद में ज्यादा माने हैं मर्द सारे .

very nice.

albela khatri ने कहा…

ha ha ha

shorya Malik ने कहा…

बहुत सुंदर , आभार



यहाँ भी पधारे
http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_5.html

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सटीक...

Kundan Abhinav ने कहा…

आपने बिलकुल सही और सार्थक बातें कहीं परन्तु हालात अब बदल रहे हैं ..आज स्त्रियों को भी वो सारे अधिकार दिए जाते हैं जिनकी वो हक़दार हैं !
ग़ज़ल के माध्यम से अपनी बातें रखने के लिए बहुत-बहुत शुभकामनायें !

rohitash kumar ने कहा…

एक ही लाठी से सारे मर्दों को न हाकें.....

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

और उपदेश पिलाने मैं भी माहिर हैं!

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

रुतबा है उसी कुल का बेटे भरे हैं जिसमे ,
जिस घर में बसे बेटी मुल्ज़िम हैं मर्द सारे .
'''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''''
लड़की जो बढे आगे रट्टू का मिले ओहदा ,
दिमाग खुद में ज्यादा माने हैं मर्द सारे .

मेहर न मिले मन का तो मारते जलाकर ,
खुद पे हुए ज़ुल्मों को रोते हैं मर्द सारे .

इबा रत लिख दी है आपने वर्तमान भारत में औरत की बे -कद्री ,दुर्दशा की .खूबसूरत अर्थ गर्भित महत्वपूर्ण पोस्ट .

फ़िरदौस ख़ान ने कहा…

शालिनी जी !
बहुत ख़ूब...

Neelima sharma ने कहा…

रुतबा है उसी कुल का बेटे भरे हैं जिसमे ,
जिस घर में बसे बेटी मुल्ज़िम हैं मर्द सारे .
umda

durga prasad Mathur ने कहा…

आपने कहा वो कुछ अरसे पहले तक 100 प्रतिशत सही था ,
लेकिन अब शायद इसका 60 प्रतिशत ही रह गया है फिर भी आपकी बात से सहमत हूँ !
आपको बधाई !

Ankur Jain ने कहा…

आपकी कविता तो बढ़िया है पर मर्द सारे वाली बात से मैं इत्तेफाक नहीं रखता...यदि आपने महज कविता की तुकबंदी बनाने के लिये ये इस्तेमाल किया है तो बात अलग है...

dr Jaya Shankar Shukla ने कहा…

yadi apka anubhav kisi ek purush se achcha nahi hai to is aadhar par sare samuday ko jimmedar thahrate huye katle aam ka hukm dandana dena kaha tak tark sangat hai
ye to wahi bat hui ki ek nsri kulta hai to samast nari jati ko aaropit karna kya jayaj hai madam

A S ने कहा…

very hard hitting but true also..good one!

piyameena ने कहा…

आप के पति नही है क्या
आटी जी

piyameena ने कहा…

कि केवल
नारी ही सहनशील होती है मैं जानती हूँ कि बहुत से पुरुष भी सहनशील
होते हैं और वे भी बहुत से
नारी अत्याचार सहते हैं इसलिए मैं न
नारीवादी हूँ और न
पुरुषवादी क्योंकि मैंने देखा है
कि जहाँ जिसका दांव लग जाता है वह दूसरे को दबा डालता है.

केवल पुरुषो को जिमेदार टहराना ठीक नही

मेरी हिन्दी ठीक नही
मुझे कम आती है